Shayari Of The Day

Hazaaron Mahphilon Mein Laakhon Mele Hain,

Hazaaron Mahphilon Mein Laakhon Mele Hain, Par Jahaan Tun Nahin Vahaan Ham Akele Hain.

हज़ारों महफिलों में लाखों मेले हैं,

Hazaaron Mahphilon Mein Laakhon Mele Hain,
Par Jahaan Tun Nahin Vahaan Ham Akele Hain.

हज़ारों महफिलों में लाखों मेले हैं,
पर जहाँ तुन नहीं वहां हम अकेले हैं।

Leave a Reply

Back to top button
Close